08 January 2006

शब्द प्राणायाम - 108 - 113

108- पानी


पानी बचाओ
पानी बचाओ
का डंका,
आदमी बजा रहा है,
पानी बचाने वाला
सिर्फ
पसीने से नहा रहा है !














*********

109- बाढ़


खून आदमी का
ख़तरे के निशान से
कितना ऊपर
हो गया है,
क्रोध, आक्रोश
और मानसिक तनाव में
आदमी,
डूब गया है !

















********

110- पहुँच


लोमड़ी की तरह
आज तक बस
मतपेटी तक पहुँच पाये हैं,
हिस्से में हमेशा
आम नागरिक के
सिर्फ
खट्टे अंगूर आये हैं !


















********

111- सूखा


देश में
सूखा क्या पड़ गया,
आदमी का आज
पानी उड़ गया !















********

112- सूली


आज भी
उसे मालूम है
उस दिन भी उसे मालूम था,
कीलें बनाने,
और ठोकने वाला
सिर्फ
आदमी था !





















********

113- सज़ा


घिस-घिस कर
किसी दिन
ख़त्म हो जाती है,
मिटा देने की
सज़ा तो,
रबर भी पाती है !

















-रमेशकुमार भद्रावले



**********

1 comment:

sunita agarwal said...

baht khub ..